संचार का विकास कैसे हुआ? The Evolution of Communication in Hindi

संचार दूसरों के साथ बातचीत या कुछ भी साझा करने का एक तरीका है। यह हमारे जीवन का अभिन्न अंग है। सही संचार का परिणाम स्वरुप हमें उचित समझ मिलता है। हम चीजों के बारे में बहुत कुछ जानने लगते हैं। आज जो भी संचार तकनीक हम उपयोग करते हैं यह विकसित होने के लिए वर्षों या युगों ली है। इस पोस्ट में, हम जानेंगे की संचार का विकास (Evolution of communication in Hindi) यानि समय के साथ संचार कैसे विकसित हुआ है।

आप बिजनेस और जनरल कम्युनिकेशन के बीच अंतर के बारे में पढ़ सकते हैं।

संचार क्या है? (What is communication in Hindi)

संचार (Communication) एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें शब्दों या संकेतों की सहायता से सूचना का आदान-प्रदान किया जाता है। हर दिन हम हमारे जीवन में संचार को विभिन्न रूपों में उपयोग करते हैं। चाहे वह लिखना हो या बात करना या सुनना। किसी भी सूचना को स्पष्ट रूप से संप्रेषित करने के लिए प्रभावी ढंग से संवाद करना बहुत महत्वपूर्ण है।

संचार का विकास कैसे हुआ?

यदि आप संचार का इतिहास जानना चाहते हैं अर्थात संचार का विकास कैसे हुआ (evolution of communication in Hindi), तो नीचे पढ़ें।

1. गुफा चित्र (Cave Painting)

गुफा चित्र को अंग्रेजी में cave painting कहा जाता है। प्राचीन काल से ही मानव संचार के लिए विभिन्न तरीकों का उपयोग करता रहा है। संचार के सबसे पुराने तरीकों में से एक गुफा चित्र हैं। गुफायों में  चित्रों को प्रतीकों के रूप में मानव विशिष्ट संदेश या सूचना देते थे।

2. प्रतीकों के माध्यम (Symbols)

हमारे पूर्वजों के पास विभिन्न संकेतों और प्रतीकों के माध्यम से संवाद करने का एक निश्चित तरीका था। पेट्रोग्लिफ्स यानि रॉक कार्विंग लगभग 10,000 ईसा पूर्व बनाए गए थे। ये चट्टानों पर की गई खुदाई संकेतों के रूप में संचार के लिए उपयोग किया जाता था। धीरे धीरे अंक, वर्णों और वर्णमाला का विकास हुआ जो संचार प्रक्रिया को आसान किया।

3. धुएँ के संकेत (Smoke Signals)

शुरुआती दिनों में, लोग संवाद करने के लिए प्रकृति के तत्वों पर निर्भर रहा करते थे। किसी भी सुचना को पहुँचाने के लिए धुआँ को संकेत रूप में उपयोग करते थे।

4. कबूतर के जरिये संचार (Pigeons)

जब वर्णमाला का विकास होने के बाद कबूतरों के माध्यम से लिखित संदेश भेजा जाने लगा। कबूतरों के माध्यम से सन्देश भेजना एक लोकप्रिय तरीकों में से एक था। उस समय यह कैरियर कबूतरों ने ‘डाक सेवा’ की तरह काम किया करते थे। प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध में भी कैरियर कबूतरों ने प्रमुख भूमिका निभाई थी।

5. डाक व्यवस्था (Postal Systems)

प्राचीन काल में, मिस्र के लोग आधिकारिक आदेश भेजने के लिए कूरियर सेवाओं का उपयोग करते थे। पहली मेलबॉक्स प्रणाली और भुगतान किए गए लिफाफों की डिलीवरी 1653 में पेरिस में शुरू की गई थी। भारत, चीन, रोम ऐसे कई देशों में भी एक संगठित डाक व्यवस्था का विकाश हुआ था।

6. प्रिंट के माध्यम से संचार (Print i.e. Newspapers)

पहला प्रिंटिंग प्रेस 1440 में जर्मनों द्वारा विकसित किया गया था और इसने संचार प्रक्रिया में बहुत परिवर्तन लाया था। प्रिंट का सुविधा विकसित होने के बाद 16वीं शताब्दी में समाचार पत्र अस्तित्व में आए थे। समाचार पढ़ कर लोग हर तरह सुचना प्राप्त करते थे।

7. रेडियो (Radio)

प्रिंट के बाद संचार तकनीक ने एक नया मोड़ लिया और संदेशों को प्रसारित करने के लिए वायरलेस शक्ति के रूप में रेडियो का विकास हुआ। रेडियो प्रसारण की शुरुआत 1893 में हुई। रेडियो लोगों के लिए समाचार के साथ-साथ मनोरंजन का साधन भी होने लगा। अभी हम मोबाइल और कार में रेडियो सिस्टम है।

8. टेलीग्राफ (Telegraph)

टेलीग्राफ का अविष्कार लंबी दूरी के संचार में एक क्रांति लाई। यह सैमुअल मोर्स और कुछ अन्य व्यक्तियोंद्वारा विकसित किया गया था जिसमे कोड के रूप में संदेश प्रसारित किआ जाने लगा। पहला टेलीग्राफ संदेश 1844 में भेजा गया था।

9. टेलीफ़ोन (Telephone)

टेलीफोन का आविष्कार मौखिक संचार यानि oral communication का एक प्रमुख रूप बन गया। आज के समय में यह संचार का सबसे महत्वपूर्ण रूप है। कई कार्यालयों में टेलीफोन को संचार के लिए उपयोग किया जाता है।

10. टेलीविजन (Television)

टेलीविजन विकसित होने के बाद से अब तक टेलीफोन की तरह टेलीविज़न भी हमारे जीवन में संचार का एक अभिन्न अंग है। आज कई तरह की सूचना हम तक टेलीविज़न के माध्यम से पहुँचती है।

11. इंटरनेट (Internet)

1950 के दशक में कंप्यूटर का उदय होने के बाद अब यह संचार का प्रमुख स्रोत बन गया है। वर्ष 1973 में ‘इंटरनेट’ शब्द का उदय हुआ जो और संचार के लिए अब सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला माध्यम है। आज हर कोई किसी भी तरह की सुचना पाने के लिए इंटरनेट का उपयोग करता है।

12. ईमेल (Email)

ईमेल या इलेक्ट्रॉनिक मेल अब व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में संचार का एक अभिन्न अंग बन गया है। ईमेल का तकनीक भी संचार को आज बहुत आसान बना दिया है। 

13. टेक्स्ट मैसेज (Text Messages)

टेक्स्ट मैसेज मॉडर्न संचार का एक ओर तरीका है जो छोटा और तेज़ है और डेटा नेटवर्क का उपयोग करता है। विश्व के हर इंसान आज इस तकनीक से जुड़ा हुआ है।

14. सोसिअल मीडिया (Social Media)

यह संचार का नवीनतम तरीका है जो हर कोई उपयोग करता है। इसने दुनिया को डिजिटाइज़ कर दिया है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म दुनिया को करीब ला दिया है। अब यह संदेशों को प्रसारित करने के सबसे लोकप्रिय तरीकों में से एक है।

इस आर्टिकल को आप अंग्रेजी में पढ़ सकते हैं।

Image by rawpixel.com on Freepik

Leave a Comment