Manoj Bajpayee Quotes in Hindi | मनोज बाजपेयी के प्रेरक अनमोल विचार

अपने सपने का पीछा करते हुए कभी हार न मानने में मदद करने के लिए यहां पढ़ें मनोज बाजपेयी के प्रेरक अनमोल विचार (Manoj Bajpayee Quotes in Hindi)। क्योंकि मनोज बाजपेयी हिंदी सिने जगत के जबरदस्त अभिनेता हैं। अपने लगातार प्रयासों, कभी हार न मानने वाले रवैये के बाद बॉलीवुड में उन्होंने एक अलग पहचान बनाया है।

मनोज बाजपेयी का जन्म 23 अप्रैल 1969 को बिहार के पश्चिम चंपारण में बेतिया शहर के पास बेलवा नामक एक छोटे से गाँव में हुआ था। उनके पिता एक किसान थे और उनकी माँ एक गृहिणी थीं। एक किसान के बेटे के रूप में, बाजपेयी अपनी छुट्टियों के दौरान खेती करते थे।

वह बचपन से ही अभिनेता बनना चाहते थे। उनके पिता को उनकी शिक्षा के लिए धन इकट्ठा करने में कठिनाई होती थी। उन्होंने चौथी कक्षा तक एक “झोपड़ी स्कूल” में अध्ययन किया, और बाद में अपनी स्कूली शिक्षा ख्रीस्त राजा हाई स्कूल, बेतिया में की। उन्होंने बेतिया के महारानी जानकी कॉलेज से 12वीं की पढ़ाई पूरी की।

वे सत्रह वर्ष की आयु में नई दिल्ली एक्टर बनने की सपना ले कर दिल्ली आए। जब वह दिल्ली आए थे, तब उनके पास ट्रैन टिकट के लिए पैसा नहीं था। पुरे रात TT से बचने के लिए एक coach से दूसरे coach भागते रहे।

बहुत कोशिश करने के बाद उन्हें दिल्ली रामजस कॉलेज में एडमिशन मिली। वहां पर उन्होंने पढ़ाई से ज्यादा ड्रामा और स्ट्रीट प्ले इवेंट में हिस्सा लिया।

बाजपेयी ने ओम पुरी और नसीरुद्दीन शाह जैसे अभिनेताओं से राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के बारे में सुना था। वहां पर एडमिशन के लिए उन्होंने आवेदन किया। एनएसडी में उस समय बहुत कम सीट अवेलेबल थी। बहुत कोशिश करने के बाद भी मनोज एनएसडी के entrace exam पास नहीं कर पाए।

उन्होंने तीन बार कोशिश किया लेकिन तीनों बार उन्हें खारिज कर दिया गया था। आखिर में खारिज से परेशान हो कर आत्महत्या करने के लिए भी सोचने लगे थे। क्यूंकि उनके लिए एक्टर बनने के अलावा और कोई प्लान नहीं था।

इसके बाद उन्होंने अभिनेता रघुबीर यादव के सुझाव से निर्देशक और अभिनय कोच बैरी जॉन की कार्यशाला में भाग लिया। बाजपेयी के अभिनय से प्रभावित होकर, जॉन ने उन्हें उनके शिक्षण में सहायता करने के लिए काम पर रखा और उनकी मासिक बेतन थी १२०० रुपये। चौथा बार उन्होंने NSD में एडमिशन के लिए अप्लाई किए। इसबार भी उन्हें रिजेक्ट कर दिया लेकिन उन्हें teaching position के लिए काम पे रख लिया गया।

1994 में गोविंद निहलानी की फिल्म द्रोहकाल में उन्हें एक मिनट की भूमिका मिली थी। उसी साल शेखर कपूर के फिल्म Bandit Queen में उन्हें Mann Singh का किरदार मिला। लेकिन मनोज बाजपेयी को असली सफलता 1998 में राम गोपाल वर्मा के फिल्म सत्या से मिली। उस मूवी में उन्हें Bhiku Mhatre नामक एक जोरदार gangster किरदार निभाया था। इस फिल्म उनके जीवन में सब कुछ बदल दिया था। इस मूवी के लिए उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर के लिए National Film Award मिला था। उनके प्रदर्शन के लिए Best Actor का Filmfare Critics Award भी मिला था।

बाजपेयी की शादी दिल्ली की एक लड़की से हुई थी, लेकिन संघर्ष के दौरान उनका तलाक हो गया। उन्होंने अभिनेत्री शबाना रज़ा से मुलाकात की, जिन्हें नेहा के नाम से भी जाना जाता है, उनकी पहली फिल्म करीब (1998) के ठीक बाद। इस जोड़े ने 2006 में शादी की और उनकी एक बेटी है।

मनोज बाजपेयी ने जीवन में कई उतार चढाव देखें हैं, लेकिन उन्होंने कभी उसके साथ समझौता नहीं की। बचपन में देखा हुआ सपने को सच बनाने के लिए कभी पीछे नहीं हटे। आज मनोज बाजपेयी हिंदी सिने दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाये हैं। 2019 में, उन्हें कला में उनके योगदान के लिए भारत के चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान, पद्म श्री से सम्मानित किया गया। वह तीन राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, चार फिल्मफेयर पुरस्कार और दो एशिया प्रशांत स्क्रीन पुरस्कार प्राप्तकर्ता हैं।

Manoj Bajpayee Quotes In Hindi (मनोज बाजपेयी के प्रेरक अनमोल विचार)

संघर्ष के मूल्य पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

1. “संघर्ष आपको बहुत कुछ सिखाता है, और मुझे खुशी है कि मैंने एक रोलर कोस्टर की सवारी देखी।” ― मनोज बाजपेयी

2. “संघर्ष ने मुझे एक व्यक्ति के रूप में बेहतर बनाया है और मुझे और अधिक परिपक्व बनाया है।” ― मनोज बाजपेयी

3. “मेरा करियर एक रोलर कोस्टर राइड रहा है। और हर अभिनेता उस चरण का अनुभव करता है।” ― मनोज बाजपेयी

4. “मैंने बहुत सारी आलोचनाओं को स्वीकार किया है और जो मैं करना चाहता था उसे करने के लिए इतना पैसा बलिदान किया है।” ― मनोज बाजपेयी

पारिवारिक व्यक्ति होने की गर्व पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

5. “मैं एक पारिवारिक व्यक्ति हूं। मुझमें और दूसरों के बीच केवल इतना अंतर है कि जब वे कॉर्पोरेट कार्यालयों में काम करते हैं, तो मैं एक अभिनेता हूं।” ― मनोज बाजपेयी

6. “मुझे किराने का सामान लेने के लिए रुकने में कोई आपत्ति नहीं है।” ― मनोज बाजपेयी

आत्मसम्मान पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

7. “मैं पद्म श्री मनोज बाजपेयी नहीं हूं। मैं मनोज बाजपेयी हूं, एक बाहरी व्यक्ति जिसने सपने देखे और मुंबई के हाशिए पर रहा और काम पाने के लिए दिन-रात काम किया।” ― मनोज बाजपेयी

तैयारी का मूल्य पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

8. “10 साल के थिएटर ने मुझे न केवल एक अभिनेता के रूप में बल्कि एक इंसान के रूप में भी तैयार किया। इसने मुझे पढ़ने, देखने और संरक्षित करने की आदत दी।” ― मनोज बाजपेयी

अभिनय कौशल पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

9. “लोग मेरे प्रदर्शन के बारे में बात कर रहे हैं, मैंने अपने क्राफ्ट, या कहानी कहने के कौशल के मामले में क्या नया प्रयास किया है।” ― मनोज बाजपेयी

10. “मुझे पता था कि मैं स्टार मटेरियल नहीं हूं। मैं गता नहीं या नृत्य नहीं कर सकता, न ही मैं एक्शन के लिए अच्छा हूं। मैं केवल वही कर सकता हूं जिसके लिए मजबूत, विविध भूमिकाओं की जरूरत है।” ― मनोज बाजपेयी

अभिनय और कार्य पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

11. “मेरे लिए, यह हमेशा स्क्रिप्ट है। स्क्रिप्ट मुझे कुछ नया करने का मौका देती है; जब से मैंने अभिनय शुरू किया है तब से यही मेरा मुख्य उद्देश्य रहा है। इससे ज्यादा मुझे उत्साहित करने वाला और कुछ नहीं है।” ― मनोज बाजपेयी

12. “अभिनय दुनिया का सबसे कठिन काम है।” ― मनोज बाजपेयी

13. “एक अभिनेता निर्देशक की दृष्टि के बिना कुछ भी नहीं है। निर्देशक के पास एक ऐसी दृष्टि होनी चाहिए जो सीमाओं को पार करे, जिससे दर्शक अपनी सीटों के किनारे पर बैठे और जो लिफाफे को आगे बढ़ाए।” ― मनोज बाजपेयी

14. “जो लोग मेरे प्रदर्शन, मेरी फिल्में देख रहे हैं, उन्हें एक बड़ा समर्थन मिला है। अगर उन्हें मेरी फिल्मोग्राफी और काम पर गर्व है, तो मैंने जो किया है, उस पर मुझे गर्व है।” ― मनोज बाजपेयी

15. “मैं शायद एक अभिनेता का सबसे अच्छा उदाहरण हूं जिसने फ्लॉप पर अपना करियर बनाया है।” ― मनोज बाजपेयी

“एक भारतीय होने पर गर्व” पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

16. “हम एक लोकतांत्रिक देश में रहते हैं, और मुझे यह कहते हुए बहुत गर्व हो रहा है कि मैं भारत से हूं, एक ऐसा देश जहां लोकतंत्र की पूजा की जाती है और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता किसी भी व्यक्ति के मौलिक अधिकार का अभिन्न अंग है।” ― मनोज बाजपेयी

भाई-भतीजावाद पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

17. “बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद हमेशा से मौजूद रहा है।” ― मनोज बाजपेयी

“पुरस्कार का अर्थ” पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

18. “अगर दर्शक खुश हैं, तो मुझे मेरा पुरस्कार मिल गया है। उसके बाद, मुझे आगे बढ़ना है।” ― मनोज बाजपेयी

मनोज बाजपेयी के प्रेरक अनमोल विचार

19. “बेहतरीन अभिनेताओं को भी किसी का अकेलापन दिखाने में बड़ी कठिनाई होगी।” ― मनोज बाजपेयी

जीवन पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

20. “मेरे लिए, जीवन की शुरुआत हर दिन, हर साल ही शुरू हो रहा है। बहुत कुछ किया जाना है!” ― मनोज बाजपेयी

21. “अतीत की प्रशंसा से आगे बढ़ना महत्वपूर्ण है। मैं सफलता को अपने सिर पर नहीं चढ़ने दे सकता।” ― मनोज बाजपेयी

22. “मनोज बाजपेयी एक पति, एक पिता और एक अभिनेता हैं। वह अपने जीवन को इससे आगे नहीं देखता है।” ― मनोज बाजपेयी

पैसे पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

23. “मेरे लिए, पैसा कभी संकेतक नहीं रहा है।” ― मनोज बाजपेयी

24. “यह बहुत दुख की बात है कि इन दिनों प्रत्येक फिल्म को उस पैसे से आंका जा रहा है जो वह बनाता है। यह एक ऐसी दुनिया है जिसका मैं हिस्सा नहीं बनना चाहता और मैं इससे दूर रहने की कोशिश करता हूं।” ― मनोज बाजपेयी

“हमेशा कोशिश करना” पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

25. “मुझे या तो बेहतर होना था या मैदान छोड़ना था। मैं असफल होकर अपने गांव वापस नहीं जा सका।” ― मनोज बाजपेयी

“कुछ नया सीखना” पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

26. “स्वतंत्र फिल्में आपको अपने पैर की उंगलियों पर रखने, आपके क्राफ्ट और कौशल को चुनौती देने और आपको कुछ नया सीखने के लिए मजबूर करने की महान संभावना हैं।” ― मनोज बाजपेयी

Cuss Words पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

27. “मुझे अपशब्दों से कोई समस्या नहीं है। हम सभी इनका इस्तेमाल करते हैं। जो लोग कहते हैं वे झूठ नहीं बोलते हैं।” ― मनोज बाजपेयी

28. “लोग अंग्रेजी अपशब्दों को सहन कर सकते हैं लेकिन हिंदी को थोड़ा विद्रोही पाते हैं।” ― मनोज बाजपेयी

“फिल्म उद्योग में प्रतिभा” पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

29. “इस उद्योग में अकेले प्रतिभा मायने नहीं रखती है, और यह बात हर कोई जानता है। अगर कोई कहता है, ‘अच्छी फिल्में बनती हैं’, ‘प्रतिभा हमेशा जीवित रहती है’, तो अन्य कारक भी हैं, जो कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं।” ― मनोज बाजपेयी

“पुरस्कार का मूल्य” पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

30. “अगर पुरस्कार मेरे पारिश्रमिक में वृद्धि नहीं कर रहे हैं या मुझे मिलने वाले प्रस्तावों में मूल्य नहीं जोड़ रहे हैं, तो उनका कोई मतलब नहीं है।” ― मनोज बाजपेयी

आत्म-चुनौतीपूर्ण पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

31. “मैं एक प्रसिद्ध अभिनेता हूं जो कठिन भूमिकाओं में खुद को चुनौती देना चाहता है।” ― मनोज बाजपेयी

अभिनय पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

32. “मैं एक स्टार नहीं बल्कि एक अभिनेता हूं, इसलिए मैं हमेशा मजबूत स्क्रिप्ट और मजबूत भूमिकाओं की तलाश में रहता हूं।” ― मनोज बाजपेयी

33. “मैं अपनी गति से काम करता हूं, और जब मैं इधर-उधर नहीं भाग रहा होता हूं तो मैं वास्तव में अच्छा काम करता हूं।” ― मनोज बाजपेयी

सकारात्मकता और नकारात्मकता पर मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार

34. “मेरा काम एक सकारात्मक आदमी से नकारात्मकता को बाहर निकालना और एक नकारात्मक आदमी से सकारात्मकता को बाहर निकालना है। मैं सकारात्मक या नकारात्मक भूमिका नहीं निभाता हूं। अभिनय के बारे में मुझे यही आकर्षक लगता है।” ― मनोज बाजपेयी

Final Words: आशा करते हैं की आपको ऊपर दिए गए मनोज बाजपेयी के अनमोल विचार (Manoj Bajpayee Quotes in Hindi) आपको पसंद आए होंगे। नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अपना मंतव्य उल्लेख करना न भूलें।

आप नीचे दी गई सूची से हमारे अन्य प्रेरक आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

इसके अलावा, आप Motivational Images प्राप्त करने के लिए हमारे इंस्टाग्राम पेज से जुड़ सकते हैं या हमारे Pinterest पेज पर जा सकते हैं।

Author Image of Aap Bhi Jaano

ABOUT ME

I am Manoranjan, a learner like you. I just want to learn about the internet resources and share with you about those resources via blogging in Hindi.

Related Posts

Leave a Comment